वित्तीय अभिलेखो का संधारण -भाग 1

किसी भी संस्था के सफल संचालन के लिए वित्तीय अभिलेखो का संधारण -भाग 1 बहुत महत्त्वपूर्ण होता है , क्योकि इसमें ही संस्था के समस्त आय-व्यय का लेखा जोखा होता है ।

इसे दो पार्ट में आपको बताएँगे भाग -1 और भाग -2 में

स्कूल के आय-व्यय के स्त्रोत को सामान्य भाषा में निधि (Fund) कहा जाता है। यह दो प्रकार के होते है 

  1. सामान्य निधि – General Fund or National Fund or Global Fund
  2. स्थानीय निधि – Local Fund
सामान्य निधि – General Fund or National Fund or Global Fund-

यह निम्न प्रकार के होते है –

  1. शाला अनुदान
  2. आकस्मिक मद
  3. विज्ञान मद
  4. पुस्तकालय मद
  5. खेल मद
  6. यूथ एंड एक क्लब
  7. लघु एवं दीर्ध मरम्मत
  8. साइंस एंड मैथ्स क्लब
  9. कम्युनिटी एंड मिडिया मोबिलाइजेशन
  10. सेफ्टी एंड सिक्योरिटी
  11. योगा ओलम्पियाड
  12. सेल्फ डिफेंस
  13. SMDC ट्रेनिंग
  14.  ईको क्लब (Eco Club)-

Also Read :-   मंकीपॉक्स क्या है इसके लक्षण, बचाव एवं उपाय


स्थानीय निधि – Local Fund-

इस fund के आय (Income)  का  एकमात्र मुख्य source बच्चों दवारा दिया गया प्रवेश शुल्क होता है जो सभी फंड्स के लिए अलग अलग निर्धरित होते है ,जिसका विवरण नीचे दिया गया है 

यह 10 प्रकार के होते है –

1-  शाला विकास निधि (जनसहयोग निधि )-  इस फंड्स का उद्देश्य शाला विकास के लिए सभी प्रकार के खर्चों को व्यय करने के लिए होता है।  स्वीपर तथा अतिथि शिक्षक की नियुक्ती इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण SMDC के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 250 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

2-  एफ निधि (Activity Fund)  इस फंड्स का उद्देश्य शाला में होने वाली Activity  के लिए सभी प्रकार के खर्चों को व्यय करने के लिए होता है। सांस्कृतिक कार्यक्रम या अन्य कोई भी कार्यक्रम का व्यय  इसी निधि से किया जाता है ।  यह एक प्रकार जनसहयोग निधि का सपोर्ट फण्ड है। इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 50 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

3-  परीक्षा निधि (Exam Fund)- इस फंड्स का उद्देश्य शाला में होने वाली सभी परीक्षाओ को संपन्न कराने के लिए होता है। प्रश्न पत्र और उत्तर पुस्तिका का व्यय  इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 150 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

4-  विज्ञान प्रायोगिक निधि (Science Prectical Fund) – इस फंड्स का उद्देश्य प्रेक्टिकल एवं प्रोजेक्ट कार्य के सामग्री क्रय  करने के लिए होता है। विज्ञान सामग्री की खरीदी इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में  हाईस्कूल के लिए 50 रुपये प्रति छात्र की दर से तथा हायर सेकंडरी स्कूल  के लिए 70 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

5-  विज्ञान क्लब (Science Club)- इस फंड्स का उद्देश्य छात्रों में वैज्ञानिक अभिरुचि उत्पन्न करना होता है। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिताएं , पहेलियाँ, कहानी लेखन , वाद विवाद , मॉडल तैयार करना आदि का व्यय इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 20 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

6-  निर्धन छात्र निधि- PBS (Poor Boys Fund)- इस फंड्स का उद्देश्य निर्धन छात्रो की मदद करना होता है। निर्धन छात्रो को  पुस्तक कॉपी या अन्य सामग्री का वितरण इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 10 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

7-  स्काउट – गाइड निधि या बालचर निधि (Scout -Guide Fund)- इस फंड्स का उद्देश्य छात्रो में चरित्र व कौशल का निर्माण करना एवं सेवा भावना का विकास करना होता है। स्काउट – गाइड से सम्बंधित समस्त खर्चों का व्यय  इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 20 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

8-  रेडक्रॉस निधि (Redcros Fund)- इस फंड्स का उद्देश्य जीवन और स्वास्थ की रक्षा करना होता है। रेडक्रॉस से सम्बंधित समस्त ख़र्चे एवं प्राथमिक उपचार किट की खरीदी इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में 30 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

9-  क्रीड़ा निधि (Games Fund)- इस फंड्स का उद्देश्य छात्रो को शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाना होता है। क्रीड़ा से सम्बंधित समस्त गतिविधियों के लिए जैसे खेल सामग्री का क्रय एवं प्राथमिक उपचार किट की खरीदी इसी निधि से किया जाता है । इस फण्ड के लिए प्रवेश शुल्क की राशि का निर्धारण शासन के द्वारा किया जाता है । वर्तमान में  हाईस्कूल के लिए 50 रुपये प्रति छात्र की दर से तथा हायर सेकंडरी स्कूल  के लिए 65 रुपये प्रति छात्र की दर से प्रवेश शुल्क लिया जाता है ।

 

वित्तीय अभिलेखो का संधारण -भाग 1 को पढने के लिए धन्यवाद् ।

Leave a Comment